25 दिसंबर, 2007

MY EXPERIMENTS WITH TRUTH


Recently I was in the land of Mahatma's birthplace, Gujarat-- although to confine Mahatma Gandhi to a particular place would be a sin. Because, this planet's one of the eminent scientist, Einstein, had once said about Gandhiji, "Generations to come will scarce believe that such a one as this walked the earth in flesh and blood." Such was the eminence and persona of Mohandas Karmachand Gandhi that he didn't belong to a particular place, religion, caste or creed.
But I my using the place, Gujarat as his birthplace, because people and the ideology, about which I am narrating, relates to this state only. No I was not in Porbander and Ahmedabad, for the recently held assembly elections. But for a cause. Not that I had gone to cover the assignment, just because elections in the state were round the corner. This cause related to the heart of Mahatma Gandhi and the millions of his followers--including those who have never read his autobiography, 'My Experiments with Truth'.
I was astonished to meet the 'so-called' Gandhians of the state. Those Gandhians who feel proud to be labeled as 'Gandhian-followers', who are heading the societies founded by Gandhiji or were formed later in his memories.

....But, does heading these societies or learning by heart the Gandhi's collected works or other studies qualify them to be called Gandhians. No. Absolutely no. A person who follows Gandhian ideology in his personal and professional life could only be termed as a true follower of Gandhiji.

A person who can stand among the thousands or speak against the wrongdoers, against what is wrong in our society is fit to be labeled as 'Gandhian'.
I am saying this because during my Gujarat tour I found such numerous pseudo-Gandhians, who feel terrified in speaking against those who have doctored Mahatma's Autobiography. It’s not only a book but a historical document on Gandhiji's life. A book which narrates how an ordinary man became apostle of truth, non-violence and peace. Story of a man who became the torch-bearer of the freedom of movement, not in India but other countries, too.


Some people in Porbander, in connivance with the local administration and some politicians, have fabricated the Mahatma’s Autobiography, ‘My Experiments with Truth’, to take possession of a shipwreck lying at the city-port. This is the very ship (S S Khedive) by which Mahatma Gandhi had returned from South Africa. Moreover this is the ship, which belonged to Dada Abdullah Company, which had sent Gandhiji to fight a legal case in South Africa. This ship, built by the king of Egypt, was owners’ pride and neighbour’s envy. The Queen of England wanted to buy this ship from the King of Egypt, Khedive. But reasons not known to the people, Khedive sold this ship, worth eight lakh pounds, to Dada Abdullah Company in 8000 thousands pounds. Gandhiji has mentioned about his trip to South Africa and about the Dada Abdullah company in detail in his autobiography. As the story goes down the lane, the

....British raj had sank S S Khedive ship at Porbander port, along with three other ships of Dada Abdullah company in different parts of the world, for the company was found to be supporting the freedom movement

. The partners of this company—Abdullah Haji Adam Jhaveri, popularly known as Dada Abdullah, and his younger brother Abdul Karim Haji Adam Jhaveri--were instrumental in founding the Natal Indian Congress in South Africa, of which Gandhiji was the first secretary. The first two presidents of the Natal Indian Congress were none other than the business partners cum brothers of the Dada Abdullah Company.
But, now the

.descendants of the founders of the Dada Abdullah Company are fighting a long legal battle for the ownership of this ship, known as S S Khedive...

. In the year 1992, the Porbander District Magistrate handed over the ownership of this ship, which is still said to be worth crores, to a lesser known Surya family of the city. When the descendants of the Jhaveri family, who had migrated to Madurai (Tamilnadu) in 1970, came to know about this they lodged a case in the Gujarat High Court. But to their dismay, they had delayed in approaching the High Court. Ten years had already passed when they had filed a suite, so court dismissed their petition. But they didn’t loss hope and again approached the High Court and the Porbander local court. In 2004, the Porbander local court accepted that the Surya family had cheated the Porbander Collector’s office while claiming as the owner of the Dada Abdullah Company as well as the S S Khedive ship. It came to light that the Surya family had doctored the Mahatma’s autobiography—they had deleted the portion from the zeroxed copy of the book where Gandhiji had mentioned about the Jhaveri brothers—and submitted it in the Collector’s office. So much so that even other books of Gandhiji, which were presented in the Collector’s office to prove the claim on the ship, were also doctored and fabricated.
Even after the court’s order, the Porbander Collector’s office has not changed the 1992 order—that Surya Family is the owner of the S S Khedive ship. Thus, the Jhaveri family is still fighting a legal battle in the Gujarat High Court against the Surya family, the Collector’s office and the Gujarat administration, who have turned the eye from this ‘biggest’ fraud and cheating of the independent India. The question is not about the worth of the ship or such a crime has occurred in Gujarat. Question is also not that the crime has been committed in the name of Gandhiji. Bu

...the bigger question is Gandhiji’s historical document i.e. ‘My Experiments with Truth’ has been doctored. The attempt has been made to change history.

t . It’s not mere a history, but a glorious past, which had been shaped by Mahatma Gandhi, the Father of the Nation. The attempt has been made in the document which is the only historical evidence of the Mahatma’s early life—because Mahatma’s later life i.e. after the Non-cooperation Movement in 1921, has been largely known to the masses and the classes.
Now about the present day Gandhians. As I have already stated that I had gone to Gujarat to unearth this fraud, I met a lot of Gandhians. Working in T.V needs sound bites on this topic from the well-known Gandhians. Although many were unaware of this biggest (un)truth, those who knew also did not dare to come on camera. They trembled, not because of facing camera but, for ‘indulging in controversy’ relating to Gandhiji.
I was disheartened to know about their versions on this issue. I was contemplating why these so-called Gandhians fear to speak on it. Was it really a controversy. Not at all. This was an attempt to bring to the public arena, a fraud committed by some scoundrels, hand in glove with the administration and some politicians—during my tour to Gujarat, some sources on the condition of anonymity disclosed that the Surya family is just a puppet in this whole issue, a leading politician of Gujarat is behind this whole cheating. The Surya family has been made the front-man because, it is said that the fore-fathers of this family were employees of the Dada Abdullah Company.
Do the Gandhians of today are nothing but just some office-bearers of the societies founded by Mahatma Gandhi. Everybody in Gujarat told me that there is one person who is an authority on Gandhiji, but somehow I could not meet him. According to them, the son of Mahadev Desai, a closed aide of Gandhiji, Narayan Desai could speak on this matter because ‘Gandhi-gatha’ is known to him by heart. I also came to know that he orgainses ‘Gandhi-katha’, like sadhus, mahant and seers recites Ram, Krishna or Shiv Katha in temples and elsewhere in satsangs. May be one day I would get chance to meet this great follower of Gandhiji. Till then I would have a dismayed picture of most of the Gandhians of this land.

2 टिप्‍पणियां:

बेनामी ने कहा…

pretty cool stuff here thank you!!!!!!!

बेनामी ने कहा…

Well that is really interesting, thanks for sharing that!
Best Vacuum
http://smallvacuumcleaners.net/

ClickComments

जनमत

मेरी अलग-अलग पोस्ट पर लोगों की राय...

1. सर, आपके हर लेख में---आपके हर अनुभव का मिश्रण होता है--जो हर बार एक नई सीख देता है। पत्रकारिता में नए हैं पर बहुत कुछ सीखने की तमन्ना है। जहां तक ट्रैन वाले अंकलजी की बात है उसपर आपका जबाब बिल्कुल सही था कि ये तो हर फिल्ड में होता है और ये सही भी है। (मनोज एटलस, 9 अगस्त 2009 को 'आर्मी कभी मत ज्वाइन करना' में)

2. बहुत अच्छा लिखा है। अभी मीडिया में कैरियर की शुरुआत की है, पढ़ता हूं तो सीखने को बहुत कुछ मिलता है। (मनोज कुमार, 2 अगस्त 2009 को 'सरकार बनी, क्राइम रिपोर्टर खुश' में)

3. बहुत लंबी पोल खोली आपने दिल्ली के पत्रकारों की। (वर्षा, 14 मार्च 2009 को 'पत्रकारों का स्वागत कैसे करें', में)

4. पत्रकारों के सरकारी दामाद बनने के शौक के चलते ही मीडिया की और लोकतंत्र की यह दुर्दशा है। आलेख काफी लंबा था। समझ नहीं आया कि आप पत्रकार बिरादरी के साथ मनाने वाले दल के सदस्य के तौर पर थे ता डायरेक्टर साहब के मन की बात जानकर केवल उन्हीं की करतूतों की रिपोर्टिंग करने गये थे। उम्मीद है टिप्पणी प्रकाशित जरुर होगी। (सरिथा, 14 मार्च 2009 को 'पत्रकारों का स्वागत कैसे करें' में)

5. सही है भाई। अपनी बिरादरी के लोगों का गुनाह खुद ही कबूल करने की हिम्मत...काबिल-ए-तारीफ। बधाई। (चण्डीदत्त शुक्ल, 19 मार्च 2009 को 'पत्रकारों का स्वागत कैसे करें' में)

6. जितना रोचक ये संस्मरण है--उससे ज्यादा काबिले-तारीफ है आपकी स्मरण-शक्ति. बरसों पहले की गई कवरेज के आपको नाम-गाम और पते ठिकाने सब याद है. बधाई। एक बात तो आप भी मानेंगे बंधु कि दिल्लीवाले पत्रकार सरकारी मेहमान थे--लिहाजा वो स्तरीय ट्रीटमेंट के हकदार थे और उनके लिए सारे इंतजाम करना सरकार का कर्तव्य था--जहां तक मैं समझता हूं डायरेक्टर साहब भी इस बात को अच्छी तरह जानते थे। दिल्ली में बैठे पत्रकार कम नहीं हैं, तो भला दिल्ली में बैठा कोई अफसर इतना भोला कैसे हो सकता है...अगर सफर की शुरुआत में ही सीएम साहब के दरबार में सीधी दस्तक दे दी जाती, तो शर्तिया तौर पर इस परेशानी से बचा जा सकता था. (अशोक कौशिक, 29 मार्च 2009 को 'पत्रकारों का स्वागत कैसे करें' में)

7. बहुत रोचक आलेख. इतनी सारी जानकारी और तस्वीरें एक वृतांत में. आन्नद आ गया नीरज भाई. लिखते रहिए नियमित. (उडन तश्तरी, 23 फरवरी 2009 को 'हल्दीघाटी पीली नहीं लाल है' में)

8. नीरज भाई, आपने अदालत के फैसले को पढ़ा और आप इस खबर को शुरु से कवर करतें रहें हो, इसलिए आपके राईटअप में आपकी पकड़ दिख रही हैं...और बिल्कुल सही है कि ये बह्रामंड का सबसे क्रूरतम मानव है। शायद इनके लिए ये सजा कम है। अगर इससे भी बड़ी कोई सजा होती तो वो मिलनी चाहिए थी। (सुजीत कुमार, 15 फरवरी, 2009 को 'बह्रामण्ड का क्रूरतम मानव' में)

9. क्षमा चाहता हूं मैं आपसे और इस फैसले से सहमत नहीं हूं। इनसे भी ज्यादा क्रूर नरपिशाच है दुनिया में. वे जो इन्हे सरक्षंण देते है और जो इनके टुकड़ो पर पलते हैं. वे जो मारे जाने वाले निर्दोष लोगों के माननधिकारों की चिंता नहीं करते, पर निरीह लोगों को बेवजह मार देने नावे आतंकियों के मानवधिकारों की बात करते हैं. ऐसे लोग सिर्फ राजनेता ही नहीं हैं, कार्यपालिका, न्यायपालिका और यहां तक कि चौथे खम्बे और साहित्य में भी हैं. उनके बारे में क्या सोचते हैं आप ? (इष्ट देव सांकृत्यायन, 15 फरवरी 2009 को 'बह्रामण्ड का क्रूरतम मानव' में)

10. सोनू पंजाबन को इतना ग्लैमराइज क्यों कर दिया गया है. क्या और सोनू पंजाबने बनाने के लिए. (वर्षा, 24 नबम्बर 2008 को 'सीक्रेट डायरी ऑफ ए कॉल गर्ल' में)

11. A very intersting post on RTI. ( Sachin Agarwal , 11 October 2008 in 'आरटीआई वाला हत्यारा')

12. नीरज, बढिया लिखे हो। महिलाओं का योन शोषण नहीं होना चाहिये। लेकिन मैं बताउं जासूसी का खेल मर्यादा और कानूनी दायरे से बाहर होता है। इसके दायरे में रह कर जासूसी नहीं हो सकता। जासूसी के ट्रेनिंग के दौरान हीं जासुसों को बेहाया बना दिया जाता है। सेक्स का कोई मायने नहीं। जासूसी के खेल में सेक्स की जो भी कल्पना कर ले सभी प्रकार का खेल होता है। लेकिन अपने देश की रक्षा में। इसी के आड़ में कुछ अधिकारी अपने हीं महिला सदस्य के साथ ऐसा करे यह गलत है। (राजेश कुमार, 24 अगस्त 2008 को 'रॉ सेक्स स्कैंडल' में)

13. कौन कहता है कि आसमान में सुराख नहीं हैजरा तबियत से एक पत्थर तो उछालो यारों... आप खुद ही कह रहे हैं कि रॉ के बारे में किसी को कुछ भी नहीं पता चल सकता.. उसके अंदर परिंदा भी पर नहीं मार सकता... आप ये सब कुछ कहते हुए रॉ की तमाम अंदरूनी बातों को अपने ब्लाग से उजागर करते चले जा रहे हैं ... बहुत खूब..अच्छा तरीका है बखिया उधेड़ने का. (बेनामी, 3 सितम्बर 2008 को 'रॉ सेक्स स्कैंडल' में)

14. अच्छी जानकारी देने के लिए धन्यवाद. सुंदर लेख है...(विनीता, 20 अगस्त 2008 को 'सूरज अस्त, नेपाल मस्त' में)

15. thanx for ur travelogue! nice post! (Munish, 20 August 2008 in 'सूरज अस्त, नेपाल मस्त' में)

16. आपका पहला सफर तो 'हवा-हवाई'हो गया था लेकिन अब लगता है कि नेपाल में भी आपको कुछ रस मिलने लगा है तभी तो नेपाल की तारीफों के पुल बांधते नहीं थक रहे हैं.. कारण चाहे जो भी हो पर नेपाल है काफी अच्छी जगह.. अगर लुत्फ उठाना हो तो नेपाल से अच्छी जगह दुनिया में कोई नहीं.. लेकिन सर.. जरा संभल के, क्योकि चमकता जो नजर आता है सब सोना नही होता...(दीप चंद्र शुक्ल, 3 सितंबर 2008 को 'सूरज अस्त, नेपाल मस्त' में)

17. काफ़ी रोचक साक्षात्कार है ये.अच्छा लगा शोभराज के कई अनजाने पहलुओं को जानकर. (बालकिशन, 29 जुलाई 2008 को 'चार्ल्स शोभराज से खास बातचीत' में)

18. इतना व्यस्त रहने के बावजूद आप अपने ब्लॉग को दुरुस्त रखते हैं।यह चीज मुझे आपकी तारीफ करने को मजबूर कर रही है।कृपया इसे बनायें रखें।।।।आशा है अापके अनुभव समाज को आपराधिक प्रवृति को समझने में मदद करते रहेंगे।।।।।।।।।।।।। (मंयक, 7 जुलाई 2008 को 'बिकनी किलर की आशिकी' में)

19. यह जानकर खुशी हुई कि आप खबरों(विशेषकर इस खबर को लेकर)को टीआरपी के चश्में से नहीं देखते हैं।जैसा आपके अन्य साथियों देखते हैं।(मसाला मिल गया)आपका blog देखा तो comment करने की हिमाकत कर रहा हूँ।उम्मीद है आप इसी तरह खबरों के प्रति ईमानदार नजरिया रखेंगे। (मंयक, 9 जून 2008 को 'ब्लॉग के लिए टाइम नहीं मिला' में)

20. नीरज जी , आपका ब्लॉग गुनाहगार मैं लगातार देखता रहता हूँ ...अपराध पर अच्छी खबरें देखने को मिलती है ...जहाँ तक बहुचर्चित आरुषि हत्याकांड की बात है तो ...स्टार न्यूज़ पर अभी (देर रात बारह बजकर पचास मिनट पर) आपका ही फोनो देख रहा था .शायद खुलासा होने ही वाला है ...आज जैसा है रेणूका चौधरी ने कहा है की आरुषि पर फ़िल्म नहीं बनेगी ...अच्छी बात है ... (रामकृष्ण डोंगरे, 10 जून 2008 को 'ब्लॉग के लिए टाइम नहीं मिला' में)

21. नीरज, रोचक ब्लॉग है आपका। (हर्षवर्धन, 10 अप्रैल 2008 को 'जीनियस कॉल-गर्ल' में)

22. नीरज जी, आपका ब्लॉग आज पहली बार मैने पढ़ा है...काफी दिलचस्प था. मैं तूलिका सिंह हूं...सीएनईबी न्यूज चैनल में बतौर क्राइम रिपोर्टर काम कर रही हूं. आपको शायद याद होगा मैने बीएजी में काम किया है इंसाफ में जो कि बाद में बंद हो गया था। मै आपके ब्लॉग की सदस्य बना चाहती हूं और आपसे क्राइम रिपोर्टिंग सीखना चाहती हूं। प्लीज अपना नंबर मुझे मेल कर दीजिए. (तूलिका सिंह, 15 अप्रैल 2008 को 'जीनियस कॉल-गर्ल' में)

23. आलेख का शीर्षक(क्लाइंट नं 9)प्रभावित कर रहा है आलेख को पढने के लिए,अच्छा लगा..साथ ही आलेख के आखिर मे कंम्पयूटर के साथ स्पिटजर को भी वायरस,व्यंग्य का भी अहसास दे रहा है।इतना तो पता था कि आपकी कलम संपूर्ण भारतवर्ष के साथ नेपाल तक मार करती है,लेकिन आपकी तूलिका से लिखी सुदूर देश की कहानी बता रही है कि सारी दुनिया मे घूमती है आपकी कलम। (अभिनव उपाध्याय, 17 मार्च 2008 को 'CLIENT NO. 9 ' में)

24. very nice information.u r a unique writer who gives a whole picture of the incedent ( आशीष, 7 फरवरी 2008 को 'कंधार से पटियाला तक' में)

25. वाह!! मिर्जा का कच्चा चिटठा देने के लिए धन्यवाद (ईष्ट देव सांकृत्यायन, 27 दिसम्बर, 2007 को 'मिर्ज़ा ग़ालिब हाज़िर हो' में)

26. नीरज जी गालिब को आज आपने फिर से मेरे जेहन में जिंदा कर दिया, वरना गालिब को तो मैं भूलता ही जा रहा था, हजारो ख्वाहिशे ऐसी की हर ख्वाहिश पे दम निकले, बहुत निकले मेरे अरमान लेकिन फिर भी कम निकले (महर्षि, 27 दिसम्बर 2007 को 'मिर्ज़ा ग़ालिब हाज़िर हो' में)

27. क्या खूब थे तुम भी गालिब। तेरे नाम ने पहुँचाया गुनहगार तलक। (दिनेशराय द्विवेदी, 27 दिसम्बर 2007 को 'मिर्ज़ा ग़ालिब हाज़िर हो' में)

28. बहुत खूब मीर्ज़ा ग़ालिब की यह कहानी पढ़कर मज़ा आ गया. ब्लॉग को एक अलग रंग देने से अछा लगा. (वीर, 4 जनवरी, 2008 को 'मिर्ज़ा ग़ालिब हाज़िर हो' में)